Soil Charger Technology kya hai

Soil Charger Technology kya hai

अपने दोस्तों के साथ शेयर करें

Soil Charger Technology : हैलो दोस्तों कैसे हो आप आज हम बात करने वाले हैं एक बहुत ही खास टॉपिक के बारे में जो कृषि से सम्बंधित होने वाला है | आज के समय में हर किसी को Soil Charger Technology के बारे जानना बहुत ही जरूरी है , चाहे वो किसान हो या फिर चाहे किसी भी प्रकार की बागवानी चलाता हो क्योंकि इसमें आपको बताया जाता है की आपको किस प्रकार मिट्टी और पौधे दोनों को कीटनाशक दवाओं से होने वाले नुकसान से बचाना है और मिटटी की उर्वरक क्षमता को बनाये रखना है | तो आज के इस आर्टिकल में हम Soil Charger Technology से जुड़े जितने भी सवाल हैं उनके बारे में बात करने वाले हैं तो चलिए शुरू करते हैं |

सॉइल चार्जर टेक्नोलॉजी क्या है ?

सॉइल चार्जर टेक्नोलॉजी पौधों को पोषण प्रदान करने की एक ऐसी प्रक्रिया है जिससे पौधों का अंदर (अंदरुनी) से विकास होना शुरू हो जाता है | इस प्रक्रिया से पौधों में ऑर्गेनिक विटामिन्स और मिनरल्स ग्रहण करने की क्षमता बढ़ जाती है जिससे फसल की मात्रा काफी अधिक हो जाती है |

Soil Charger Technology in hindi

मृदा अभियोक्ता प्रौद्योगिकी

यह भी पढ़ें – CSC क्या है ? CSC full form in hindi

यह भी पढ़ें – हरियाणा Vigilance Department meaning in hindi

यह भी पढ़ें- Kareena Kapoor second son name and age

सॉइल चार्जर टेक्नोलॉजी कैसे काम करती है ? How it work ?

सॉइल चार्जर टेक्नोलॉजी कैसे काम करती है ये जानने के लिए आपको इसके चार पिलरों के बारे में जानना होगा जिनका वर्णन निचे किया गया है |

  1. Disease produces weakness or weakness produces disease (रोग दुर्बलता उत्पन्न करता है या दुर्बलता रोग उत्पन्न करती है)
  2. Role of soil and climate (मिट्टी और जलवायु की भूमिका)
  3. Essential elements (आवश्यक तत्व)
  4. Photosynthesis (प्रकाश संश्लेषण)

Pillar 1. Disease produces weakness or weakness produces disease

पहले पिलर में आपको समझाया गया है की कमजोरी के कारण रोग आते हैं या रोग के कारण कमजोरी आती है लेकिन सभी किसान जानते हैं की कमजोरी के कारण रोग पैदा होते हैं लेकिन फिर भी किसान कमजोरी पर करके फसल पर आये रोग के ऊपर काम करता है | परन्तु Soil Charger Technology ये कहता है की रोग की बजाय आप फसल में जो कमजोरी है उस पर काम करें |

Pillar 2 . Role of soil and climate (मिट्टी और जलवायु की भूमिका)

इसमें हमें ये बताता है की हमारी फसल में जो कमजोरी है वो मिटटी की वजह से आयी है इसलिए हमें मिटटी के ऊपर ज्यादा ध्यान देना होगा क्योंकि जो फसल की पैदावार होती है वो 80 % मिटटी के ऊपर डिपेंड 20 % वातावरण के ऊपर डिपेंड करती है |

Pillar 3 . Essential elements (आवश्यक तत्व)

फसल की अच्छी पैदावार के लिए मिट्टी में ह्यूमस का बहुत बड़ा रोल होता है करीब करीब 94 % मिट्टी को ह्यूमस की जरूरत होती है एक एवरेज फसल उत्पादन के लिए | इसलिए इसमें बताया है की जिस कम्पोनेंट की ज्यादा जरूरत है उस पर ज्यादा काम करने की आवश्यकता है |

Pillar 4 .Photosynthesis (प्रकाश संश्लेषण)

इसमें जो चौथा पिलर है वो हमें बताता है की पौधा अपना भोजन जड़ व पत्तों के साथ मिलकर सूर्य के प्रकाश के जरिये अपना भोजन बनाते हैं जिसे प्रकाश संश्लेषण कहते हैं | इसका कहने का मतलब ये है की किसान पौधे पर ध्यान न देकर उसके फल पर ज्यादा ध्यान देता और Soil Charger Technology ये कहता है की आपको सिर्फ पौधे के ऊपर ध्यान देना जब पौधा ही आपका कमजोर है तो फल कैसे अच्छा लगेगा | अगर पौधा तन्दरुस्त होगा तो फल की मात्रा भी अपने आप बढ़ जाएगी |

अगर आपको इनका कोई प्रोडक्ट खरीदना है तो आप इनकी official वेबसाइट पर जा सकते है https://soilchargertechnology.com


अपने दोस्तों के साथ शेयर करें

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *